रुकने से डरिए, फेल होने से नहीं ।

In this post we will discover the importance of moving.

Jatin tiger

6/21/20231 min read

रुकने से डरिए, फेल होने से नहीं

Fear stopping, not failure

ये जीवन एक साइकल की तरह है खड़े रखने के लिए हमेशा चलते रहना होगा, जैसे ही आप रुकेंगे तो गिरजाएँगे।

इससे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि आप कितनी बार गिर रहे है फ़र्क़ इस बात से पड़ता है कि आप चल रहे हैं कीनहीं।

हार जीत जीवन के पहलू हैं। इनमें से कोई भी हमेशा नहीं रहता है। तो हार के डर से चलना नहीं छोड़ना है।चलते रहिए

और फेल होना है क्या, असफलता आख़िर है क्या ? ये बस एक सूचक है कि आप ग़लत कर रहे हैं उसको सहीसे कीजिए बस इसमें डरना क्या है बस ढूँढिये की क्या सही नहीं हो रहा है, उसको सही कीजिए और फिर सेचल पड़िये

Life is like a bicycle. To stay upright, you must keep moving. If you stop, you will fall. It doesn't matter how many times you fall; what matters is whether you are still moving forward. Winning and losing are aspects of life. No one stays on either side forever. So don't stop because of the fear of failure. Keep going.

And what is failure? Is it really a failure? It is simply an indicator that you are doing something wrong. Correct it properly. There is no need to be afraid of it. Just figure out what is not going right, fix it, and start again.